Home / आलोचना / आरोपी से टीआई व एएसआई ने लिए 10 लाख

आरोपी से टीआई व एएसआई ने लिए 10 लाख

इंदौर। बेटी से दोस्ती कर आरोपी ने एमएमएस बनाया। वीडियो वायरल करने की धमकी देने पर बेटी ने आत्महत्या कर ली। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस तो दर्ज किया लेकिन बेटी के मोबाइल का डेटा आरोपी तक पहुंचा दिया। टीआई और एएसआई स्तर के कर्मचारियों ने आरोपी से 10 लाख रुपए लेकर केस दबा दिया। यह आरोप लगाकर एक महिला फूटफूट कर रोने लगी। नाराज डीआईजी ने दोनों अफसरों के खिलाफ जांच बैठा कर क्राइम ब्रांच से रिपोर्ट मांगी है। नंदलालपुरा निवासी लक्ष्मी  मंगलवार को पुलिस जनसुनवाई में पहुंची और एमजी रोड टीआई अनिल यादव व एएसआई रमेश बारोड़ पर आरोप लगाए। महिला ने डीआईजी से कहा कि बेटी रीना की पंढरीनाथ निवासी अमित भिलवारे से दोस्ती थी। आरोपी ने उसका एमएमएस बनाया और फोटो लिए। ब्लैकमेलिंग से तंग आकर बेटी ने 11 अप्रैल को आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामला दबा दिया। शिकायत के बाद अमित के खिलाफ केस तो दर्ज कर लिया लेकिन टीआई व एएसआई ने आरोपी से सांठगांठ कर ली। उसको गिरफ्तार नहीं किया गया। एएसआई ने बेटी के मोबाइल से महत्वपूर्ण डेटा भी आरोपी तक पहुंचा दिया जिससे उसकी हाई कोर्ट से अग्रिम जमानत मंजूर हो गई। आरोपी अमित, भाई सुमित और पिता अशोक पीड़ित परिवार को धमका रहा है। डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने क्राइम ब्रांच को जांच के निर्देश दिए हैं। टीआई यादव के मुताबिक आरोपी अमित के खिलाफ चालान पेश कर दिया गया है। महिला के आरोप गलत हैं। पुलिस ने परिवार की मौजूदगी में ही छात्रा के मोबाइल की जांच की थी।

JUNeD indore

x

Check Also

बस में खराबी के लिए हम जिम्मेदार नहीं

इंदौर | डीपीएस के प्रिंसिपल सुदर्शन सोनार को पुलिस ने फिर बयान के लिए बुलाया। सोनार ...