Home / आलोचना / मुख्यमंत्री विधानसभा बुदनी ग्राम पंचायत दिगबाड़ में हो रहा है भ्रष्टाचार

मुख्यमंत्री विधानसभा बुदनी ग्राम पंचायत दिगबाड़ में हो रहा है भ्रष्टाचार

सीहोर।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की विधानसभा बुदनी  मध्यप्रदेश सरकार का मॉडल बनेगी।जिस के चलते सेकड़ों ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। ग्रामीण समस्याओं के निराकरण के लिए पंचायत कार्यालय के चक्कर काटने को विवश है। पंचायत कार्यालय में ताला लगा रहता है योजनाओं की जानकारी बोर्ड पर प्रदर्शित नही की जाती है।
जिस से ग्रामीणों को शासकीय योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। सरपंच और सचिव घटिया सड़कों का निर्माण करा रहे है। शमशान घाट टीनशेड निर्माण में भी लापरवाहीं बरती जा रहीं है। खेल मैदान की देखभाल करने वाला कोई नहीं है। नलजल योजना में बनाई गई पानी की टंकी में अबतक पानी नहीं पहुंचा है। निर्माणकार्यो में जमकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। उक्त शिकायत मंगलवार को जनसुनवाई में पहुंची ग्राम पंचायत दिगबाड की हीं उप सरपंच अंकिता अग्रवाल ने जिला पंचायत सीईओं और कलेक्टर को की है।

चक्कर काट रहे है ग्रामीण

जिले की जनपद पंचायत नसरूल्लागंज के अंतर्गत ग्राम पंचायत दिगबाड के सरपंच और सचिव के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत करने वाली उपसरपंच श्रीमति अग्रवाल ने शिकायती पत्र में कलेक्टर को बताया की सरपंच सचिव के द्वारा नियमित रूप से पंचायत कार्यालय भवन नहीं खोला जाता है जिस से पंचों और पदाधिकारियों सहित ग्रामीणों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कार्यालय के बाहर लगे ब्लेक बौर्ड पर ग्रामीणों के हित में चलाए जाने वाली सरकारी योजनाओं की जानकारी भी नहीं लिखी गई है। जिस के चलते सेकड़ों ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। ग्रामीण समस्याओं के निराकरण के लिए पंचायत कार्यालय के चक्कर काटने को विवश है।

मजदूरों को नहीं दिया रोजगार

हाल हीं में सीसी सड़क का निर्माण रोजगार गारंटी के तहत कराया गया है सीसी सड़क में जमकर भ्रष्टाचार किया गया है सड़क पर गहरे गडढ़े हो चुके है। सड़क निर्माण में भी नियमों का पालन नहीं किया गया है गांव के मजदूरों को काम नहीं देकर बाहर के मजदूरों को रोजगार दिया गया है। पंचायत ने नलजल योजना के लिए पानी की टंकी का निर्माण किया है लेकिन ग्रामीणों को योजना का लाभ अबतक मिलना शुरू नहीं हुआ है। पंचायत के द्वारा बच्चों के खेल के लिए बनाए गए मैदान की भी देखरेख नही की जा रहीं है, मुक्तिधाम निर्माण में भी हजारों रूपए का गोलमाल कर दिया गया है। सरपंच और सचिव की मिली भगत से भ्रष्टाचार हो रहा है। उपसरपंच ने मामले की शिकायत सीएम हेल्प लाईन और जनपद सीईओ नसरूल्लागंज को भी की गई है। मामले की निष्पक्ष जांच किए जाने की मांग उपसरपंच और ग्रामीणों ने कलेक्टर से की है।

x

Check Also

दो भाइयों को 20-20 साल की सजा

इंदौर। बहन से गैंगरेप करने वाले दो भाइयों को कोर्ट ने 20-20 साल के सश्रम कारावास ...