Home / आलोचना / निदान हाईटेक व वैभव हास्पीटल का पंजीयन निरस्त किए जाने का नोटिस जारी

निदान हाईटेक व वैभव हास्पीटल का पंजीयन निरस्त किए जाने का नोटिस जारी

सीहोर। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डी.आर.अहिरवार के दिशा-निर्देशन में आज दोपहर सीहोर के निदान हाईटेक हास्पिटल तथा वैभव हास्पिटल में सघन जांच एवं निरीक्षण विशेष जांच दल द्वारा किया गया। इस दौरान कई खामियां एवं कमियां पाई गई। सीएमएचओ ने हास्पीटल में संचालित मेडिकल स्टोर्स को मेडिकल एक्ट का पालन नहीं किए जाने पर कार्यवाही के सख्त निर्देश दवा निरीक्षक को दिए है। वहीं हास्पीटल का एमटीपी रजिस्टर एवं रिकार्ड जांच के लिए जब्त कर लिया गया है। हास्पिटल में नियुक्त स्टाफ ड्यूटी पर नहीं पाया गया वहीं विशेषज्ञ स्टाफ भी कार्यरत नहीं पाया गया। हास्पिटल में शासकीय क्लीनिकल एवं रोगोउपचार एक्ट एवं नियमों व प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जा रहा है। वहीं वैभव हास्पिटल में भी बड़े पैमाने पर खामियां पाई गई। यहां एमटीपी पंजी रिकार्ड 2016 से पूर्णत: दर्ज नहीं होने के कारण जब्त की गई है। यहां पर भी प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जा रहा है वहीं नर्सिंग होम एक्ट का खुल्ला उल्लंघन हो रहा है। अस्पताल का पंजीयन निरस्त किए जाने हेतु नोटिस जारी किया गया है। जांच दल में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डी.आर.अहिरवार, जिला कुष्ठ उन्मूलन अधिकारी डॉ.आनंद शर्मा,जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.एम.के चंदेल,रेडियोलॉजिस्ट डॉ.नितीन पटेल,नर्सिंग होम प्रभारी हिमांशु शर्मा सहित अन्य कर्मचारी उपस्थित थे।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डी.आर.अहिरवार ने बताया कि आज निदान हाईटेक हास्पिटल में जांच की गई। सघन निरीक्षण में पाया गया कि नियमानुसार फॉयर सेफ्टी एक्जीट सिस्टम भी नर्सिंग होम में नहीं लगा हुआ पाया गया। मेडिकल स्टोर्स का लाईसेंस फार्मासिस्ट आलोक वर्मा के नाम पर पंजीकृत है जहां अपंजीकृत और अप्रशिक्षित कर्मचारी विनोद विश्वकर्मा मेडिकल स्टोर्स संचालित करता पाया गया तत्काल मेडिकल स्टोर्स को सील कर दिया गया है। हास्पिटल में 11 कर्मचारी कार्यरत है परंतु एक चिकित्सक एवं एक आयुष चिकित्सक महिला डॉ.अदिती शर्मा कार्य करते पाई गई। नियमानुसार आयुष चिकित्सक नर्सिंग होम कार्य नहीं कर सकते अतएव आयुष चिकित्सक डॉ.अदिति शर्मा का पंजीयन निरस्त करने के लिए आयुष काउंसिल को पत्र लिखा गया है। डॉ.अहिरवार ने बताया कि निदान हास्पिटल में एमटीपी,एबार्षन रिकार्ड अधूरा पाया गया एमटीपी एक्ट के अंतर्गत जांच के लिए रिकार्ड पंजी/एमटीपी रिकार्ड जब्त कर लिया गया है। ऑपरेशन थियेटर में प्रोटोकॉल चस्पा नहीं पाए गए वहीं वार्मर निर्धारित यूनिट में लगा नहीं पाया गया। जांच दल द्वारा मांगे जाने पर क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भोपाल का प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं किया गया,कमियों पर अस्पताल प्रभारी डॉ.रेखा भाटी कोई भी संतुष्टि पूर्ण जवाब नहीं दे सकी। एएनसी पंजी शासकीय नियमों के कालमवार नहीं पाई गई। न्यूबोर्न केयर रूम प्रोटोकॉल युक्त नहीं पाया। वैभव हास्पिटल में ओपीडी, आईपीडी रजिस्टर में काफी अंतर पाया गया। मानव संसाधन भी पर्याप्त नहीं पाया गया। पीसीपी एंडडीटी एक्ट का भी उल्लंघन पाया गया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का प्रमाण पत्र भी नहीं पाया गया। तीन साल पुराने फायर सिस्टम लगा हुआ पाया गया जिसे अत्यंत गंभीरता से लिया गया है। वहीं फॉयर एक्जीट सिस्टम नहीं पाया गया। ऑपरेशन थियेटर भी नियम विरूद्ध पाया गया। सीएमएचओ ने बताया कि वैभव हास्पिटल की संचालक डा दिशा छबलानी को नर्सिंग होम की मान्यता निरस्त किए जाने संबंधी कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

x

Check Also

व्यवस्थाएं सुधारने के लिए सरकार पानी की तरह पैसा बहा रही है। लेकिन इस पैसे का जनहित में सही उपयोग नहीं

   सरकार पानी की तरह पैसा बहा रही है          इस पैसे ...