Home / इंदौर / बचे काम को लेकर सवा करोड़ के टेंडर

बचे काम को लेकर सवा करोड़ के टेंडर

इंदौर : नगर प्रतिनिधि। एलआईजी चौराहे से रिंगरोड तक लिंक रोड के बचे हुए काम को पूरा करने के लिए आईडीए ने सवा करोड़ रुपए का टेंडर जारी कर दिया है, मगर एक तरफ जहां जैन परिवार की जमीन के कारण रोड अटकी है, वहीं दूसरी तरफ अयोध्यापुरी कॉलोनी में हाईकोर्ट ने नए भूृ-अर्जन कानून के मुताबिक मुआवजा देने के आदेश दे दिए हैं। लिंक रोड के लिए जमीन लेते समय सबसे पहले लाइफ लाइन अस्पताल के पास जैन परिवार की आपत्ति आई। किसी तरह इसका निपटारा हुआ, मगर रोड इसलिए अधूरी रह गई, क्योंकि नगर निगम से नक्शा पास होने की शर्त रख दी गई। यह नक्शा करीब छह महीने पहले पास हो गया है, लेकिन करीब सात करोड़ रुपए फीस जमा न होने से नक्शा जारी नहीं हुआ और न ही सड़क बन पाई। सड़क संकरी होने के कारण एलआईजी चौराहे से आने वाला ट्रैफिक रोज गुत्थमगुत्था होता है और कई बार हादसे की नौबत आ जाती है। नगर निगम इंजीनियर महेश शर्मा का कहना है कि यदि रोड का काम जैन परिवार के नक्शे के कारण अटका है, तो यह बाधा अब खत्म हो गई है। नगर निगम ने नक्शा पास कर दिया है। उसमें किसी तरह की दिक्कत नहीं है। आईडीए पूरा रोड बना सकता है। रही बात नक्शा जारी करने की, तो जैन परिवार को फीस जमा करने के लिए कहा है। जैसे ही फीस जमा होती है, नक्शा जारी कर दिया जाएगा। आईडीए अध्यक्ष शंकर लालवानी का कहना है कि जैन परिवार की जमीन पर सड़क के मामले में नक्शा पास होने की शर्त थी। अभी हमें पता नहीं है कि नक्शा पास हुआ या नहीं। हमें किसी ने इसकी खबर भी नहीं दी। अब नगर निगम से पता करेंगे कि नक्शे की स्थिति क्या है। यदि नक्शा पास हो गया होगा, तो सड़क बना देंगे। जैन परिवार की जमीन के पीछे अयोध्यापुरी कॉलोनी की जमीन भी रोड की जद में आ रही है। यहां दिक्कत ये है कि हाईकोर्ट ने नए भू-अर्जन एक्ट के मुताबिक मुआवजा देने के आदेश दिए हैं। लालवानी का कहना है कि यह मुआवजा इतना हो रहा है, जितने में पूरी रोड बनी है। यह पैसा हम कहां से लाएं। फिर भी कोशिश है कि किसी तरह रोड का काम पूरा हो जाए। लालवानी ने बताया कि लिंक रोड पर जितना भी काम बचा है, उसे पूरा करने के लिए एक करोड़ 24 लाख 73 हजार 700 रुपए के टेंडर जारी कर दिए हैं। ऑनलाइन टेंडर खरीदने की आखिरी तारीख 17 फरवरी 2017 है। आईडीए की कोशिश है कि लिंक रोड का काम पूरा हो जाए। अभी कुछ जगह रोड संकरी होने से लोगों को परेशानी होती है।

JUNED Indore

x

Check Also

व्यवस्थाएं सुधारने के लिए सरकार पानी की तरह पैसा बहा रही है। लेकिन इस पैसे का जनहित में सही उपयोग नहीं

   सरकार पानी की तरह पैसा बहा रही है          इस पैसे ...